Author Topic: Leap Second  (Read 505 times)

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 35517
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Leap Second
« on: June 16, 2015, 02:35:34 PM »
World gets a 61-second minute known as a leap second


WHEN is a minute not a minute? 
 
Well at 2359 Greenwich Mean Time on June 30, or 9.59am AEST on July 1, the world will experience a minute that will last 61 seconds.

The reason? Something called the leap second. That’s when timekeepers adjust high-precision clocks so they’re in sync with earth’s rotation, which is affected by the gravitational tug of the sun and moon.

Few of the planet’s 7.25 billion people are likely to be aware of the change.

But for horologists, the additional second is a big deal, and there’s a wrangle as to whether it is vital or should be scrapped. The last modification, on June 30, 2012 was disruptive for many internet servers, including Qantas’ online reservation system, which went down for several hours.


The leap second is not something that needs to be added to the clock on your mantelpiece.

Instead, its importance is for super-duper timepieces, especially those using the frequency of atoms as their tick-tock mechanism.

At the top of the atomic clock range are “optical lattices” using strontium atoms, the latest example of which, unveiled in April, is accurate to 15 billion years — longer than the universe has existed.

Outside the lab, caesium and rubidium clocks are the workhorses of Global Positioning System satellites, which have to send synchronised signals so that sat-nav receivers can triangulate their position on earth.

On earth, big-data computers may be less manic than atomic clocks, but still need highly precise internal timers.

The internet, for instance, sends data around the world in tiny packets that are then stitched together in microseconds. Some algorithms in financial trading count on gaining a tiny slice of a second over rivals to make a profit.

There have been 25 occasions since 1971 when the leap second was added in an effort to simplify Co-ordinated Universal Time (UTC), the official moniker for GMT.

But over the past 15 years, a debate has intensified about whether the change should be made, given the hassle.

Daniel Gambis, from the International Earth Rotation and Reference Systems Service, which is in charge of saying when the second should be added, defends the change.

If it were dropped, in 2000 years there would be an hour’s difference between UTC and the time it takes for the earth to complete one complete turn, Gambis says.

“It would mean that, on a scale of tens of thousands of years, people will be having their breakfast at two o’clock in the morning.”
Originally published as World gets a 61-second minute

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 35517
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Re: Leap Second
« Reply #1 on: June 29, 2015, 02:21:54 PM »
नासा का दावा: 30 जून को एक सेकंड के लिए रुक जाएगा समय
वॉशिंगटन. 30 जून 2015 साल के बाकी दिनों से थोड़ा लंबा होगा। अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा के दावे के मुताबिक, एक अतिरिक्त सेकंड (लीप सेकंड) जुड़ने के कारण 30 जून का दिन सामान्य से थोड़ा-सा लंबा होगा। ग्रीन बेल्ट स्थित नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर का कहना है कि धरती का रोटेशन थोड़ा धीमा हो रहा है, जिसे लीप सेकंड्स में गिना जा सकता है।



कोऑर्डिनेटेड यूनिवर्सल टाइम (यूटीसी) के मुताबिक, एक दिन में 86,400 सेकंड्स होते है। यूटीसी टाइम स्टैंडर्ड का इस्तेमाल वक्त देखने के लिए किया जाता है। यूटीसी ‘एटॉमिक टाइम' है, जहां एक सेकंड की अवधि सीसियम के एटम्स में होने वाली पूर्वानुमानित इलेक्ट्रोमैग्नेटिक ट्रांजिशन्स के आधार पर तय की जाती है।


एक रोटेशन में लगते हैं 86,400.002 सेकंड
 ये ट्रांजिशन्स इतने विश्वसनीय हैं कि सीसियम क्लॉक 1,400,000 सालों तक एक सेकंड भी एक्युरेटली प्रिडिक्ट कर सकती है। हालांकि, एक मीन सौर दिन, यानी एक दिन की औसत लंबाई इस पर निर्भर करती है कि पृथ्वी को रोटेट करने में कितना समय लगता है। आमतौर पर पृथ्वी को एक रोटेशन में 86,400.002 सेकंड लगते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि मीन सौर दिन 1820 के बाद से 86,400 सेकंड्स लंबा नहीं रहा है। इसलिए 30 जून को ठीक 11:59:59 यूटीसी पर एक लीप सेकंड जोड़ा जाएगा। इसका मतलब यह है कि इस वक्त के बाद नया दिन शुरू होने के बजाए एटॉमिक क्लॉक्स में 11:59:60 बजेंगे। वैज्ञानिकों का मानना है कि एक सेकंड दिन बड़ा होने से कम्प्यूटर्स को नुकसान हो सकता है। इससे बचने के लिए ऐसा किया जाना जरूरी है।

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 35517
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Re: Leap Second
« Reply #2 on: June 29, 2015, 02:22:31 PM »
इतिहास में 26वीं बार होगा ऐसा

'लीप सेकंड' का सिद्धांत पहली बार 1972 में आया था। अब तक 25 बार 'लीप सेकंड' जोड़ा जा चुका है। अमेरिकी नेवल ऑब्जर्वेटरी में अर्थ ओरिएंटेशन पैरामीटर्स के प्रमुख ने बताया कि 30 जून को 86,400 के बनिस्बत 86,401 सेकंड होंगे। यह दिन हर किसी के लिए एक सेकंड लंबा होगा।


तब सॉफ्टवेयर हो गए थे क्रैश

गौरतलब है कि 'लीप सेकंड' दुनियाभर की कंपनियों की चिंता का विषय बना हुआ है। इससे पहले 2012 में जब 'लीप सेकंड' जोड़ा गया था, तब कई कंपनियों के सॉफ्टवेयर क्रैश हो गए थे। जावा प्रोग्राम में गड़बड़ियां आ गई थीं। हालांकि, इस बार कई कंपनियों ने इसकी पहले से ही तैयारी कर रखी है। बावजूद संकट बना हुआ है।

 

GoogleTagged