Author Topic: Lack of capable Teachers in India  (Read 5056 times)

sheemar

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 17455
  • Gender: Male
    • View Profile
    • Email
Lack of capable Teachers in India
« on: February 12, 2014, 12:17:11 AM »
शिक्षा विभाग को नहीं मिल रहे काबिल टीचर
शिक्षा मंत्री ने माना, बीएड-ईटीटी पास अध्यापक नहीं कर पाते पीएसटीईटी क्लीयर

•अमर उजाला ब्यूरो
जालंधर। शिक्षा विभाग को काबिल टीचर नहीं मिल रहे हैं। यह बयान शिक्षा मंत्री सिकंदर सिंह मलूका का है। मंगलवार को हंसराज महाविद्यालय के वार्षिक पुरस्कार समारोह में पहुंचे शिक्षा मंत्री ने माना कि बेशक राज्य में बीएड व ईटीटी पास किए गए अध्यापकों की गिनती अधिक है मगर यह अध्यापक पीएसटीईटी (पंजाब राज्य अध्यापक पात्रता परीक्षा) को पास ही नहीं कर पाते।
उन्होंने कहा कि दिसंबर में लिए गए टेस्ट के नतीजे अच्छे नहीं रहे हैं। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक शिक्षा विभाग ने जो दिसंबर 2013 में दो टेस्ट लिए थे, उसका प्रतिशत काफी कम है।
विभाग के मुताबिक राज्य में पीएसटीईटी-1 ईटीटी पास टीचरों और पीएसटीईटी-2 बीएड अध्यापकों के लिए लिया गया था। इसमें पास प्रतिशत चौंकाने वाला रहा है।
आंकड़ों के मुताबिक पीएसटीईटी-1 में एक लाख 68 हजार 396 उम्मीदवार टेस्ट देने बैठे थे, जिसमें से महज 5141 ही पास हुए हैं। इसका पास प्रतिशत 3.05 रहा है।
ऐसे ही पीएसटीईटी-2 में 60 हजार 382 उम्मीदवार परीक्षा में बैठे, जिसमें से 4251 बीएड अध्यापक ही इस टेस्ट को पास कर सके थे। इसका पास प्रतिशत 7.04 रहा। मलूका के मुताबिक इस बार का नतीजा अच्छा न रहने के कारण अब पंजाब सरकार ने जुलाई में दोबारा इस टेस्ट को लेने की योजना बनाई है।
पत्रकारों के साथ बातचीत में मलूका ने कहा कि राज्य में इस टेस्ट के पास हुए बिना अध्यापकों की नियुक्ति नहीं की जा सकती। सरकार चाहती है कि जिन अध्यापकों ने योग्यता टेस्ट पास किया है, उन्हें नौकरी दे दी जाए। मगर, यह मामला भी अदालत में होने के कारण शिक्षा विभाग भर्ती के मामले में बेबस है। उनके मुताबिक इस समय राज्य में करीब 15 हजार अध्यापकों ने टेस्ट पास किया हुआ है, जिन्हें कोर्ट के आदेश के मुताबिक नौकरी दे दी जाएगी।
पारितोषिक वितरण समारोह में 300 छात्राएं सम्मानित
जालंधर। हंसराज महिला महाविद्यालय के प्रांगण में वार्षिक पारितोषिक वितरण समारोह का आयोजन किया गया। इस समारोह के दौरान शिक्षा मंत्री सिकंदर सिंह मलूका विशिष्ट अतिथि के रूप में हाजिर हुए। कॉलेज प्रबंधक कमेटी के प्रधान एचआर गंधाव और जिला योजना-आयोग के प्रधान गुरचरण सिंह चन्नी ने मलूका का स्वागत किया। समारोह के दौरान 62 छात्राओं को स्वर्ण, 33 को रजत पदक, 180 छात्राओं को शैक्षिक ट्राफी और 80 को शिक्षेत्तर ट्राफी प्रदान की गई। 300 के लगभग छात्राओं को शिक्षा व शिक्षा में बढ़िया योगदान के लिए सम्मानित किया गया। शिक्षा मंत्री ने कॉलेज को तीन लाख रुपये की ग्रांट देने की घोषणा भी की।
इस दौरान छात्राओं की तरफ से रंगारंग कार्यक्रम भी पेश किया गया।
पत्रकारों की तरफ से पूछे गए सवाल पर मलूका ने सीईओ जालंधर हुकम सिंह और सुपरिंटेंडेंट दविंदर पाल कौर के मामले को सुलझाने का दावा किया है। उन्होंने साफ किया कि कर्मचारी प्रदर्शन कर उन पर दबाव बनाने का प्रयास कर रहे हैं। इसे कभी सहन नहीं किया जाएगा। मामले की जांच चल रही है। जांच से पहले सुपरिंटेंडेंट की गई बदली को उन्होंने मामला शांत करने का नाम दिया।
•हंसराज महाविद्यालय के वार्षिक समारोह में पहुंचे सिकंदर सिंह मलूका
•दिसंबर में लिए पीएसटीईटी का नतीजा नहीं रहा बेहतर, जुलाई में दोबारा लेंगे टेस्ट
शिक्षा मंत्री सिकंदर सिंह मलूका कहना है कि एडेड स्कूलों में विषय माहिरों की कमी का मामला हल होना अभी मुश्किल है। सरकार उन स्कूलों में पदों को भरने के बजाय इन स्कूलों के लिए दो योजनाएं तैयार कर चुकी है। समय आते ही उन्हें लागू कर दिया जाएगा। एक तो एडेड स्कूलों के कर्मचारियों के मुताबिक उन्हें शिक्षा विभाग में शिफ्ट करना है। मगर, इसमें कमेटियों की प्रॉपर्टी रुकावट बन रही है। दूसरा बिना बिल्डिंग ही अध्यापकों को शिक्षा विभाग में शिफ्ट करते हुए कमेटियों को अपने स्तर पर स्कूल चलाने की आज्ञा दे दी जाए।
जालंधर के एचएमवी कॉलेज में कनवोकेशन के दौरान छात्रा को डिग्री देते शिक्षा मंत्री मलूका।
शिक्षा मंत्री ने कहा कि लड़कियों के स्कूलों से मेल स्टाफ को शिफ्ट करने से पुरुष अध्यापकों को तो कोई परेशानी नहीं है मगर, मीडिया इसे तूल दे रहा है। उनका कहना है कि सरकार का यह फैसला सराहनीय है। इस योजना के मुताबिक महज 400 अध्यापकों को बदला गया है।
अध्यापक योग्यता परीक्षा पास बेरोजगार यूनियन पंजाब के चेयरमैन अमनदीप सिंह फुल ने कहा कि मंत्री का बयान बेतुका है। राज्य में टीईटी पास बेरोजगार अध्यापक तीन साल से नौकरी के लिए भटक रहे हैं। मगर, सरकार उनकी तरफ ध्यान ही नहीं दे रही है। उन्होंने माना कि अभी इस मामले को लेकर कोर्ट में मामला है, जिसकी तारीख 12 फरवरी है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार सही ढंग से कोर्ट में अपना पक्ष रखे तो मामला शांत हो सकता है।

sheemar

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 17455
  • Gender: Male
    • View Profile
    • Email
Re: Lack of capable Teachers in India
« Reply #1 on: February 12, 2014, 12:21:54 AM »

                                                                                                                                                                     
« Last Edit: February 12, 2014, 01:41:11 AM by sheemar »

meena

  • Real Member
  • **
  • Offline
  • Posts: 168
  • Gender: Female
  • never give up
    • View Profile
Re: Lack of capable Teachers in India
« Reply #2 on: February 12, 2014, 02:11:17 AM »
bilkul sahi jihde kabil ne uhna di hosla vadhaun lyi sarkaar ki kar rhi hai ralian de dhake te police de muke.

sheemar

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 17455
  • Gender: Male
    • View Profile
    • Email
Re: Lack of capable Teachers in India
« Reply #3 on: April 03, 2014, 10:27:21 AM »

sheemar

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 17455
  • Gender: Male
    • View Profile
    • Email
Re: Lack of capable Teachers in India
« Reply #4 on: April 12, 2014, 07:33:26 AM »

sheemar

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 17455
  • Gender: Male
    • View Profile
    • Email
Re: Lack of capable Teachers in India
« Reply #5 on: April 12, 2014, 09:38:37 AM »


ansh

  • Real Member
  • **
  • Offline
  • Posts: 124
    • View Profile
Re: Lack of capable Teachers in India
« Reply #6 on: April 12, 2014, 08:30:38 PM »
good


PATIALA CITY

  • News Caster
  • *****
  • Offline
  • Posts: 5321
    • View Profile
Re: Lack of capable Teachers in India
« Reply #8 on: April 16, 2014, 02:01:05 PM »
I hope so...code of conduct to baad sarkaar bharti kar lave...

Deep Kahnewalia

  • Real Member
  • **
  • Offline
  • Posts: 126
  • Gender: Male
  • miles to go
    • View Profile
Re: Lack of capable Teachers in India
« Reply #9 on: April 23, 2014, 09:22:58 AM »
shayad sc he ehna sutian sarkara nu jga ske

 

GoogleTagged



Safai Abhiyan of Teachers Versus Railways """Difference""""

Started by vineysharma68

Replies: 7
Views: 3730
Last post September 29, 2014, 09:04:47 PM
by vineysharma68
2,667 primary, upper primary schools don’t have enough teachers

Started by sheemar

Replies: 0
Views: 623
Last post May 05, 2017, 08:11:14 AM
by sheemar
Teachers’ work hours in tech colleges increased by 2 hours a week t:

Started by SHANDAL

Replies: 0
Views: 969
Last post May 22, 2015, 07:48:55 AM
by SHANDAL
Training of untrained in service Elementary Teachers in the Govt./Govt.Aided/una

Started by sheemar

Replies: 0
Views: 425
Last post September 08, 2017, 07:21:26 PM
by sheemar
DRAMA of UP-GRADED Schools.Posts Manzoor nahin.Session ki shuruat bina Teachers?

Started by Yeniv

Replies: 1
Views: 1265
Last post July 23, 2016, 08:34:53 PM
by rajkumar