Author Topic: शिक्षा के गिरते स्तर/विश्व बैंक की रिपोर्ट  (Read 737 times)

sheemar

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 17016
  • Gender: Male
    • View Profile
    • Email

निम्न और मध्यम आय वाले देशों में प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा के गिरते स्तर को लेकर विश्व बैंक की रिपोर्ट

शिक्षा में पिछड़े 12 देशों में हम 11वें नंबर पर, गांवों में पांचवीं कक्षा के 50% और तीसरी के 75% छात्र दो अंकों को जोड़ने-घटाने में फेल

टीचर ही हैं शिक्षा का स्तर गिरने की एक बड़ी वजह

सीखने के संकट के अलावा रिपोर्ट में ऐसे कई कारण सामने आए हैं जिनकी वजह से बच्चों और स्कूलों में शिक्षा का स्तर गिरा है। इनमें प्रमुख ये हैं-
स्कूलों में शिक्षकों की गैरहाजिरी की उच्च दर।
शिक्षकों के पास शिक्षा देने के लिए योग्यता का अभाव।
कौशल विकास के लिए पर्याप्त प्रशिक्षण कार्यक्रमों का होना।
शिक्षकों में प्रभावी तरीके से पढ़ाने की क्षमता का होना।
स्कूलों में एडमिशन की कमी या पहले से कमजोर छात्रों का होना।
छात्रों को परिवार से पर्याप्त समर्थन या प्रेरणा मिलना।
बिना ज्ञान के शिक्षा देना ना केवल विकास के अवसर को बर्बाद करना है, बल्कि बच्चों और युवाओं के साथ बड़ा अन्याय भी है: विश्व बैंक
एजेंसी| वॉशिंगटन
ग्रामीणभारत में तीसरी कक्षा के तीन चौथाई छात्र मामूली सवाल भी हल नहीं कर पाते हैं। इन्हें दो अंकों के जोड़-घटाव वाला मामूली सवाल भी हल करना नहीं आता। पांचवीं कक्षा के तो आधे से ज्यादा छात्र ऐसे सवाल हल नहीं कर सकते। देश की बदतर शिक्षा व्यवस्था का ये खुलासा विश्व बैंक की रिपोर्ट में हुआ है। विश्व बैंक ने निम्न और मध्यम आय वाले 12 देशों की सूची जारी है, जहां की शिक्षा व्यवस्था सबसे बदतर है। इसमें मलावी पहले और भारत दूसरे नंबर पर है। यानी हम सिर्फ मलावी से आगे हैं। सोमवार को जारी 'वर्ल्ड डेवलपमेंट रिपोर्ट 2018- लर्निंग टू रियलाइज एजूकेशंस प्रॉमिस' में कहा गया है कि भारत में दूसरी कक्षा के ज्यादातर छात्र तो एक छोटे से वाक्य का पहला अक्षर भी सही से पढ़ नहीं पाते हैं। इसे लेकर विश्व बैंक ने चेतावनी भी जारी की है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत समेत निम्न और मध्यम आय वाले 12 देशों में सामान्य और अंकों से जुड़ी आधारभूत शिक्षा का अभाव है। यही वजह है कि इन देशों में दूसरी कक्षा के तीन चौथाई बच्चे सामान्य वाक्य का एक अक्षर भी नहीं पढ़ पाते। अफ्रीकी देशों में छठी कक्षा के 47% छात्र बेसिक गणित के सवाल नहीं हल कर पाते हैं।
ऐसीशिक्षा से गरीबी खत्म नहीं होगी रिपोर्टमें वैश्विक शिक्षा में ज्ञान के संकट की चेतावनी दी गई है। कहा गया है कि शिक्षण संस्थान छात्रों को बेहतर शिक्षा मुहैया नहीं करा रहे हैंं। बिना ज्ञान की शिक्षा से गरीबी को मिटाने और समाज में समृद्धि का सपना पूरा नहीं किया जा सकता। ऐसे में ज्ञान का ये संकट सामाजिक खाई को और बढ़ा रहा है। विश्व बैंक के प्रमुख जिम योंग किम ने कहा, 'ज्ञान का संकट नैतिक और आर्थिक दोनों तरह का है। अगर लोगों को अच्छी शिक्षा दी जाती है तो वह बेहतर नौकरी, आय और स्वास्थ्य लाभ हासिल करते हैं। वरना पूरी जिंदगी गरीबी में काटनी पड़ती है।'




 

GoogleTagged



नहीं खुलेगा नया बीएड कॉलेज

Started by sheemar

Replies: 2
Views: 288
Last post May 17, 2017, 11:04:02 AM
by Baljit NABHA
J&K 25 निजी बीएड कॉलेज बंद

Started by sheemar

Replies: 0
Views: 336
Last post July 31, 2017, 05:03:36 PM
by sheemar
शाला सिद्धि Shaala Siddhi

Started by Gaurav Rathore

Replies: 8
Views: 934
Last post December 12, 2017, 07:41:02 PM
by Gaurav Rathore
अब स्टूडेंट्स की अटेंडेंसSMS से

Started by sheemar

Replies: 0
Views: 1023
Last post July 08, 2015, 11:40:47 AM
by sheemar
डीईओ ऑफिस, जहां कोई अफसर नहीं आना चाहता

Started by SHANDAL

Replies: 2
Views: 1220
Last post June 29, 2015, 06:34:25 AM
by SHANDAL