Author Topic: पंजाब के अंग्रेजी अध्यापकों को पढ़ाएगी अम  (Read 575 times)

Gaurav Rathore

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 5380
  • Gender: Male
  • Australian Munda
    • View Profile

पंजाब के अंग्रेजी अध्यापकों को पढ़ाएगी अमेरिकन फाऊंडेशन
-एक बार फिर लगेगी अंग्रेजी अध्यापकों की क्लास
-अंतर सिर्फ इतना अध्यापकों की क्लास लेने वाले मंत्री बदले
शिक्षा फोक्स, जालंधरः
पंजाब के सरकारी स्कूलों में बच्चों को अंग्रेजी की शिक्षा देने वाले अध्यापकों को एक बार पुनः अंग्रेजी का टेस्ट देना होगा। मास्टर जी का यह टेस्ट अमेरिकन इंडिया फाऊंडेशन ट्रस्ट लेगा। शिक्षा विभाग ने इस क्लास को इंग्लिश हैल्पर का नाम दिया है। इस प्रोजेक्ट में 10 जिलों के 500 अपर प्राइमरी सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों व अध्यापकों को अंग्रेजी पढ़ाई जाएगी। डायरैक्टर जनरल अॉफ स्कूल एजुकेशन पंजाब प्रदीप कुमार ने इस प्रोजेक्ट की पुष्टि की है। जानकारों की मानें तो अध्यापकों व बच्चों को अंग्रेजी में माहिर बनाने की जरूरत इस बार के अाए नतीजों के कारण पड़ी है। इस बार दसवीं के नतीजों में अंग्रेजी का नतीजा कुछ खास नहीं रहा है। बोर्ड के नतीजों के मुताबिक 78.68 प्रतिश्त रहा है। जबकि सबसे ऊपर पंजाबी का नतीजा 93.35 प्रतिश्त रहा है।
गौर हो कि अकाली-भाजपा के शासनकाल के दौरान भी अंग्रेजी मास्टरों का टेस्ट हो चुका है। यह टेस्ट तत्कालीन शित्रा मंत्री डा. दलजीत सिंह चीमा ने लिया था। टेस्ट में सभी अध्यापक फेल हुए थे। अब एक बार पुनः अंग्रेजी अध्यापकों के लिए परीक्षा की घड़ी है। अंतर सिर्फ इतना है कि इस बार मास्टर जी की परीक्षा लेने वाले मंत्री बदल चुके हैं।
पता चला है कि फाऊंडेशन ने अंग्रेजी पढ़ाने वाले शिक्षकों की अध्यापन कुशलता बढ़ाने के लिए सॉफ्टवेयर तैयार किया है। डीजीएसई प्रदीप कुमार के मुताबिक राज्य सरकार ने इस नए प्रोग्राम का नाम इंग्लिश हैल्पर रखा है, जिससे विद्यार्थियों को अंग्रेजी में माहिर बनाने के लिए कोर्स शुरु होगा, जो शिक्षकों पर भी लागू होगा। इंग्लिश हैल्पर प्रोग्राम के लिए संबंधित जिलों के जिला शिक्षा अधिकारियों (सैकेंडरी) को पत्र लिखकर प्रोग्राम लागू करने के लिए कहा गया है।

शिक्षा विभाग के पास नहीं हैं पूरे अंग्रेजी के अध्यापक
जानकारी के मुताबिक इस समय शिक्षा विभाग में अंग्रेजी के मास्टर जी की भारी कमी है। हालात एेसे हैं कि सरकार को अंग्रेजी में निपुन अध्यापक मिल भी नहीं रहे हैं। इस समय स्कूलों में पढ़ाने वाले बच्चों को अंग्रेजी का विषय एसएसटी मास्टर पढ़ा रहे हैं। यही नहीं प्रत्येक साल अंग्रेजी में एसएसटी मास्टरों से डंग टपा रहे शिक्षा विभाग को तंग करना नहीं भूलता। एसएसटी अध्यापकों की एसीअार में अंग्रेजी विषय का नतीजा भी जोड़ा जाता है, जिससे एसएसटी अध्यापक खफा हैं।

 

GoogleTagged