Author Topic: टीचर्स के लीगल नोटिस का जवाब तुरंत देने का आ&  (Read 237 times)

sheemar

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 16986
  • Gender: Male
    • View Profile
    • Email

टीचर्स के लीगल नोटिस का जवाब तुरंत देने का आदेश
लीगल नोटिस और शिकायतों का जल्द निपटारा करने के लिए डीईओ की जिम्मेदारी फिक्स
अंकितशर्मा | जालंधर
शिक्षाविभाग ने टीचर्स और मुलाजिमों के लीगल नोटिस और शिकायतों का जल्द निपटारा करने के लिए डीईओ की जिम्मेदारी फिक्स कर दी है। यह भी कहा है कि जिन केसों में लीगल नोटिस प्रति बेनती में मुलाजिम का क्लेम नियम, हिदायतों और विभाग की पॉलिसी के अनुसार जायज हो उसका निपटारा तुरंत करें। अगर क्लेम जायज नहीं है तो उसे तुरंत कारण बताकर रद्द किया जाए।
इन दोनों ही हालात में लीगल नोटिस का जवाब समय पर हर हालत में संबंधित वकील को भेजा जाए। इसे लेकर विभाग के लीगल सेल की तरफ से सीईओ और डीईओ को ऑर्डर कर दिए गए हैं।
राज्य-भर के डीईओ को साफ कह दिया गया है कि अदालती केसों को जल्द से जल्द पहल के आधार पर निपटाना है।
रिट पिटिशनों का जवाब पहली पेशी पर ही दायर किया जाना चाहिए। संभव हो पाए तो दूसरी पेशी में हर हालत में जवाब दायर करना यकीनी बनाएं। जवाब में देरी के कारण अदालत की तरफ से कोई एडवर्स ऑर्डर पास किया जाता है या किसी प्रकार की कॉस्ट डाली जाती है तो डीईओ और संबंधित अधिकारी की जिम्मेदारी फिक्स की जाएगी।
डीईओ फैसले लागू करवाएं
विभागकी तरफ से जनरलाइज किए फैसलों को डीडीओ स्तर पर लागू नहीं किया जाता है। इसलिए डीईओ ऐसे फैसलों को लागू करवाने के लिए जिम्मेदार होंगे। इन आदेशों को कोई डीडीओ और स्कूल मुखी प्रिंसिपल लागू नहीं करता तो उसके खिलाफ कार्रवाई का केस डीईओ विभाग को भेजेंगे।