Author Topic: कम हुई सरकारी प्राइमरी स्कूलों में बच्चों   (Read 491 times)

sheemar

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 17222
  • Gender: Male
    • View Profile
    • Email

3 साल में 5500 कम हुई सरकारी प्राइमरी स्कूलों में बच्चों की संख्या

मुफ्त पढ़ाई और दोपहर का भोजन की स्कीमें भी नहीं लुभा पा रही सरकारी स्कूलों में स्टूडेंट्स को, इंफ्रास्ट्रक्चर का अभाव बना समस्या

प्रदीप शर्मा| बठिंडा
टीचिंगमेथोडोलॉजी के साथ मुफ्त शिक्षा की सुविधा के बावजूद सरकारी स्कूल लोगों को आकर्षित नहीं कर पा रहे, शहरों की नहीं बल्कि गांव के लोगों का भी सरकारी स्कूलों से मोह भंग हो रहा है। इसके चलते आए साल सरकारी प्राइमरी स्कूलों में बच्चों की संख्या कम हो रही है। बदली मानसिकता और समय के अनुरूप सरकारी स्कूलों का सुधार करना और इंफ्रास्ट्रक्चर का अभाव ही इसकी प्रमुख वजह है। प्राइमरी स्कूलों में देखा जा रहा है जहां साल-दर-साल बच्चों का अनुपात कम हो रहा है, 3 सालों में 5484 बच्चे कम हो गए हैं।
पहली से 5वीं तक बच्चों की संख्या
भेजी है डेस्क की डिमांड
398प्राइमरी स्कूलों के लिए 13,563 ड्यूल डेस्क की डिमांड का प्रोपोजल बनाकर डीसी को भेजा गया है। जिले के कुछेक स्कूलों में 11 हजार 123 ड्यूल डेस्क मौजूद हैं।
} स्कूल बढ़े, बच्चे घटे
शिक्षाविभाग की ओर से घर के नजदीक शिक्षा उपलब्ध करवाने के मकसद से नए स्कूल खोले जा रहे हैं। इसी कड़ी में छह ब्लॉक पर आधारित जिला बठिंडा में इस साल एक प्राइमरी स्कूल बढ़ाया गया जिससे संख्या 398 हो गई लेकिन इसके विपरीत जिले में बच्चों की संख्या बीते साल की अपेक्षा 1977 बच्चे कम हो गए। वर्ष 2016-17 में जिले में प्राइमरी स्कूलों की संख्या 397 थी जिनमें 49010 बच्चों की एनरोलमेंट थी जबकि 2017-18 में एक स्कूल बढ़ने से संख्या 398 हो गई लेकिन बच्चों की एनरोलमेंट 47033 रह गई।
} खाली पड़ी टीचर, हेड टीचर की पोस्टें
सरकारीप्राइमरी 398 स्कूलों में सिर्फ 1861 टीचर ही पढ़ा रहे हैं जबकि एक हेड टीचर 5 टीचर समेत पांच पोस्टों के अनुपात में यह आंकड़ा 2388 टीचर का बनता है जिनमें से 527 सीटें खाली पड़ी हैं। जिले में 41 सेंटर हेड टीचर की पोस्टों में से 29 भरी हुई हैं जबकि 12 सीटें खाली हैं। वहीं हेड टीचर की 261 पोस्टों में से 92 सीटें खाली हैं जबकि 261 सीटें भरी हैं। वहीं जेबीटी की 1548 पोस्टों में से 1524 भरी जबकि 24 सीटें खाली हैं। रही-सही कसर ईटीटी से मास्टर काडर की प्रमोशन होने के बाद 200 पोस्टें और खाली होने के आसार बन गए हैं।
अब भी टाट पर ही बैठते हैं बच्चे, पीते हैं जहरीला पानी
आज के आधुनिक युग में भी सरकारी प्राइमरी स्कूलों के बच्चे सर्दी हो या गर्मी का मौसम जमीन पर बिछाए टाट पर बैठते हैं। सरकार की ओर से एलिमेंटरी स्कूलों में बैंच आदि का प्रावधान तक नहीं है। आज की अपडेट जेनरेशन तो खुद जमीन पर बैठना पसंद करती है और ही अभिभावक अपने बच्चों को जमीन पर बिठाने के हक में हैं। हालांकि कुछ स्कूल मुखियाओं की ओर से दानी सज्जनों के सहयोग से डेस्क आदि का प्रबंध करवाए हैं। यही नहीं, एलिमेंटरी स्कूलों में पीने के पानी तक के लिए कोई माकूल बंदोबस्त नहीं है, बच्चे हैंडपंप का जहरीला पानी पीते हैं जबकि कई स्कूलों में तो बिजली का बिल भरा होने की वजह से बिना पंखों के पढ़ाई करना बच्चों की विवशता है। कुछेक स्कूलों की इमारत भी खस्ताहाल है।
साल सरकारी प्राइवेट स्कूल
2015-1652517 57041
2016-17 49010 59196
2017-18 47033 58340
मोटीवेट करने से शहर के स्कूल में बढ़ रहा ग्राफ
^सरकारीस्कूलों में बच्चों को पढ़ाने के लिए पढ़ो पंजाब प्रोजेक्ट के तहत सर्वे करवाया जाता है और आम पब्लिक को सरकारी स्कूलों की लाभकारी स्कीमों से अवगत करवाकर बच्चे पढ़ाने के लिए मोटीवेट किया जाता है। यही वजह है कि शहरी स्कूल में बच्चों का ग्राफ बढ़ा है, जिसका प्रमाण है देसराज एलिमेंटरी स्कूल में बच्चों की संख्या 300 से बढ़कर 650 पहुंचना है। लोगों को प्राइवेट स्कूलों की ओर आकर्षण ही सरकारी स्कूलों में बच्चों के ग्राफ कम रहने की प्रमुख वजह है। गुरचरणसिंह, डीईओ एलिमेंटरी, बठिंडा
एजुकेशन

 

GoogleTagged



J&K 25 निजी बीएड कॉलेज बंद

Started by sheemar

Replies: 0
Views: 239
Last post July 31, 2017, 05:03:36 PM
by sheemar
नहीं खुलेगा नया बीएड कॉलेज

Started by sheemar

Replies: 2
Views: 203
Last post May 17, 2017, 11:04:02 AM
by Baljit NABHA
PSEB:ने बदला गणित का पैटर्न

Started by sheemar

Replies: 1
Views: 523
Last post August 14, 2017, 07:42:23 AM
by sheemar
मिलेगा 5 साल से अटका DA का बकाया

Started by sheemar

Replies: 0
Views: 867
Last post December 18, 2016, 09:45:10 AM
by sheemar
अब स्टूडेंट्स की अटेंडेंसSMS से

Started by sheemar

Replies: 0
Views: 902
Last post July 08, 2015, 11:40:47 AM
by sheemar