Author Topic: प्रॉपर्टी टैक्स में 10 फीसदी वृद्धि की तैयार&  (Read 55 times)

sheemar

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 16854
  • Gender: Male
    • View Profile
    • Email


प्रॉपर्टी टैक्स में 10 फीसदी वृद्धि की तैयारी, 125 गज तक के मकान भी आएंगे दायरे में

निगमों की हालत खराब |आमदन और खर्च में गैप बढ़ा

कैबिनेट मीटिंग में सकता प्रस्ताव, 150 करोड़ से ज्यादा रेवेन्यू जुटाएगी सरकार

पंजाबसरकार ने अब प्रॉपर्टी टैक्स में करीब दस फीसदी इजाफा करने की तैयारी शुरू कर दी है। चंडीगढ़ में होने वाली आगामी कैबिनेट मीटिंग में लोकल बॉडीज के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी सतीश चंद्रा इस संबंध में प्रस्ताव पेश कर सकते हैं। प्रस्ताव को मंजूरी मिलते ही अकाली भाजपा सरकार की ओर से कुछ कैटेगरी को दी गई रियायतों पर भी कैंची चलना तय है। वहीं 125 गज तक के मकानों को मिल रही प्रॉपर्टी टैक्स की माफी को खत्म किया जा सकता है। नगर निगम ने भी सरकार की ओर से प्रॉपर्टी टैक्स में इजाफा करने को मांगे गए ब्यौरे की रिपोर्ट भी तैयार कर भेज दी है। जिसके अनुसार शहर में 50 से 125 गज तक के करीब एक लाख प्रॉपर्टी हैं। प्रदेश की सत्ता संभालने के बाद आर्थिक संकट से जूझ रही कांग्रेस सरकार प्रॉपर्टी टैक्स की दरों को रिवाइव कर पूरे पंजाब भर से 150 करोड़ से अधिक आमदन करने की प्लानिंग में है, जिसमें केवल लुधियाना नगर निगम से 50 करोड़ रुपए आने की संभावना है। अभी निगम को सालाना 65 करोड़ रुपए प्रॉपर्टी टैक्स से आमदन है, जो नई दरों के लागू होने के बाद 115 करोड़ रुपए का अनुमान लगाया जा रहा है।
प्रदेश में नगर निगमों की आर्थिक हालत इतनी खराब हो चुकी है कि डेवलपमेंट करवाना तो दूर स्टाफ की सैलरी तक निकालना मुश्किल हो गया है। निगम में हर महीने आमदन खर्च के ग्राफ में पांच करोड़ से अधिक का गैप बढ़ता जा रहा है। ऐसे में आमदन में बढ़ोतरी करने की सरकार प्लानिंग में है।
^आगामी कैबिनेट मीटिंग में प्रॉपर्टी टैक्स की दरों में बदलाव को प्रस्ताव रखा जाएगा। विधानसभा चुनाव से पहले प्रॉपर्टी टैक्स की कुछ रियायतों को नर्म कर कुछ कैटेगरी को फायदा दिया गया था। इसके साथ साथ माफी में आते रिहायशी यूनिट पर भी कुछ एकमुश्त टैक्स लगा स्मार्ट सिटी की शर्तों को भी पूरा किया जाना है। -सतीशचंद्रा, एडिशनल चीफ सेक्रेटरी, लोकल गर्वमेंट
^ हमनेरिपोर्ट सबमिट कर दी है | सरकारने प्रॉपर्टी टैक्स में बदलाव को हमसे रिपोर्ट मांगी गई थी, जो सरकार को सबमिट कर दी गई है। अब इसके बदलाव का फैसला सरकार ने लेना है। -विवेकवर्मा, सुपरिटेंडेंट नगर निगम

 

GoogleTagged