Author Topic: NPS returns are Better than PF...  (Read 1147 times)

Gaurav Rathore

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 5332
  • Gender: Male
  • Australian Munda
    • View Profile
NPS returns are Better than PF...
« on: January 14, 2015, 06:22:48 PM »
पेंशन फंड्स देता है PF से बेहतर रिटर्न
« Last Edit: January 14, 2015, 06:28:43 PM by G.Rathore »

Gaurav Rathore

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 5332
  • Gender: Male
  • Australian Munda
    • View Profile
Re: NPS returns are Better than PF...
« Reply #1 on: January 14, 2015, 06:24:56 PM »
Pension funds come of age, give more returns than PF

NEW DELHI: They reached late, but NPS ( National Pension System) investors have finally joined the party in the capital markets. An analysis by ET shows that NPS schemes have generated better returns than the provident fund. The average NPS fund for Central government workers has given 10.35% returns since launch, while the average state government scheme has delivered 10.84%.

The NPS schemes for the general public have also done very well, thanks to the bullishness in the equity markets and the recent rally in bonds. The average equity fund has generated 14.6%, while the corporate bond fund has given 10.6%. Gilt funds have given average returns of 9.9%. These calculations are based on SIP returns on monthly contributions from inception till December 2014.

The high returns should be music to the ears of the estimated 36 lakh government employees (14 lakh central government and 22 lakh state government) who have nearly Rs 53,500 crore invested in NPS. Three pension funds manage this gigantic corpus, which is almost 92% of the assets under management (AUM) of the NPS.

But the higher returns have been accompanied by greater volatility. The NPS funds did very well in 2012-13, but gave pathetic returns in the following year. As bond yields shot up in 2013-14, the SIP returns of the average Central government fund was 5.4% while the average state government fund grew only 4.9%. The 18% returns from equities that year didn't help much as these funds had only a small portion of their corpus in stocks.
The Pension Fund Regulatory and Development Authority (PFRDA) allows NPS managers to invest up to 15% in equities, but no pension fund manager has ever hit that ceiling. As on November 30, 2014, the central government scheme of UTI Retirement Solution had only 11.48% in stocks, while the fund managed by SBI Pension Fund had allocated only 8.25% to equities. "The unsaid benchmark use for the central government NPS is the EPFO rate of return. Therefore, PF managers keep a lower allocation to stocks. But this compromises the long-term return potential of the scheme. They should ideally increase the exposure to equity," says Manoj Nagpal, head of marketing and business development at Zyfin Advisors and founder CEO of Outlook Asia Capital.

Despite the conservative allocation, NPS funds have given good returns in the first nine months of 2014-15. This is due to the bond rally in 2014. The 10-year benchmark bond yield fell 135 basis points from 9.1% in April 2014 to around 7.8% by the end of 2014 pumping adrenaline into the NAVs of funds overweight on government bonds. The average SIP return of the gilt funds in 2014-15 is close to 22%, better than the 20% delivered by the equity funds in the period.

In the NPS segment for the private sector, the E class (equity) funds have done well with average SIP returns of 14.6% since the scheme was thrown open to the public in May 2009. ET looked at the returns of four types of investors in the past three fiscals and since launch (see table).

Gaurav Rathore

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 5332
  • Gender: Male
  • Australian Munda
    • View Profile
Re: NPS returns are Better than PF...
« Reply #2 on: January 14, 2015, 06:25:49 PM »

Gaurav Rathore

  • News Editor
  • *****
  • Offline
  • Posts: 5332
  • Gender: Male
  • Australian Munda
    • View Profile
Re: NPS returns are Better than PF...
« Reply #3 on: January 14, 2015, 06:29:36 PM »
पेंशन फंड्स देता है PF से बेहतर रिटर्न
इकनॉमिक टाइम्स

बाबर जैदी, नई दिल्ली

नैशनल पेंशन सिस्टम यानी एनपीएस में इन्वेस्ट करने वाले भी देर से ही सही, कैपिटल मार्केट्स में चल रही पार्टी में शामिल हो गए हैं। ईटी ने जो विश्लेषण किया, उससे पता चलता है कि एनपीएस स्कीम्स ने प्रॉविडेंट फंड से बेहतर रिटर्न दिया है। सेंट्रल गवर्नमेंट के वर्कर्स के लिए एवरेज एनपीएस फंड ने लॉन्च से लेकर अब तक 10.35% रिटर्न दिया है, जबकि एवरेज स्टेट गवर्नमेंट स्कीम ने 10.84% रिटर्न दिया है।

इक्विटी मार्केट्स में तेजी और बॉन्ड्स में हालिया रैली के कारण जनरल पब्लिक के लिए एनपीएस स्कीम्स ने भी अच्छा प्रदर्शन किया है। एवरेज इक्विटी फंड ने 14.6% जबकि कॉरपोरेट बॉन्ड फंड ने 10.6% रिटर्न दिया है। गिल्ट फंड्स ने 9.9% का एवरेज रिटर्न दिया है। ये कैलकुलेशंस शुरू होने के बाद दिसंबर 2014 तक मंथली कंट्रीब्यूशंस पर एसआईपी रिटर्न पर आधारित हैं।

ऊंचे रिटर्न से करीब 36 लाख सरकारी कर्मचारियों (14 लाख सेंट्रल गवर्नमेंट और 22 लाख स्टेट गवर्नमेंट्स के) को खुशी होगी, जिन्होंने एनपीएस में लगभग 53,500 करोड़ रुपये निवेश किए हैं। इस विशाल रकम को तीन पेंशन फंड मैनेज करते हैं। यह रकम एनपीएस की असेट्स अंडर मैनेजमेंट का करीब 92 पर्सेंट हिस्सा है।

हालांकि ऊंचे रिटर्न के साथ ज्यादा वोलैटिलिटी भी रही है। एनपीएस फंड्स ने 2012-13 में अच्छा प्रदर्शन किया था, लेकिन उसके बाद वाले साल में इनसे निराशाजनक रिटर्न मिला। बॉन्ड यील्ड्स 2013-14 में चढ़ीं और एवरेज सेंट्रल गवर्नमेंट फंड का एसआईपी रिटर्न 5.4% रहा, जबकि एवरेज स्टेट गवर्नमेंट फंड ने महज 4.9% रिटर्न दिया। उस साल इक्विटीज से 18% के रिटर्न से भी खास मदद नहीं मिली क्योंकि इन फंड्स ने स्टॉक्स में काफी कम रकम लगाई थी।

पेंशन फंड रेग्युलेटरी ऐंड डिवेलपमेंट अथॉरिटी एनपीएस मैनेजरों को इजाजत देती है कि वे इक्विटीज में 15% तक इन्वेस्ट कर सकते हैं, लेकिन किसी भी पेंशन फंड मैनेजर ने इस सीमा तक निवेश ही नहीं किया है। 30 नवंबर 2014 तक के आंकड़ों के अनुसार, यूटीआई रिटायरमेंट सॉल्यूशंस की सेंट्रल गवर्नमेंट स्कीम ने स्टॉक्स में 11.48% इन्वेस्टमेंट ही किया था जबकि एसबीआई पेंशन फंड की ओर से मैनेज किए जा रहे फंड ने इक्विटीज में केवल 8.25% अलोकेशन किया था।

आउटलुक एशिया कैपिटल के फाउंडर सीईओ और जिफिन अडवाइजर्स में मार्केटिंग और बिजनस डिवेलपमेंट हेड मनोज नागपाल ने कहा, 'सेंट्रल गवर्नमेंट एनपीएस के लिए अलिखित बेंचमार्क ईपीएफओ पर रिटर्न रेट है। लिहाजा, पीएफ मैनेजर्स स्टॉक्स में अलोकेशन कम रखते हैं। हालांकि इसके चलते लॉन्ग-टर्म के लिहाज से बेहतर रिटर्न जेनरेट करने की स्कीम की क्षमता पर असर पड़ता है। उन्हें इक्विटी में एक्सपोजर बढ़ाना चाहिए।' कंजर्वेटिव अलोकेशन के बावजूद एनपीएस फंड्स ने 2014-15 के पहले नौ महीनों में अच्छा रिटर्न दिया है। इसकी वजह 2014 में आई बॉन्ड रैली है। 10 साल के बेंचमार्क बॉन्ड पर यील्ड अप्रैल 2014 में 9.1% थी, जो 135 बेसिस पॉइंट्स गिरकर 2014 के अंत में करीब 7.8% रह गई। इससे गवर्नमेंट बॉन्ड्स पर ओवरवेट फंड्स की एनएवी को रफ्तार मिली। 2014-15 में गिल्ट फंड्स का एवरेज एसआईपी रिटर्न करीब 22% रहा, जो इसी दौरान इक्विटी फंड्स से मिले 20% रिटर्न से बेहतर था।

प्राइवेट सेक्टर के लिए एनपीएस के सेगमेंट में ई क्लास (इक्विटी) फंड्स ने मई 2009 में इस स्कीम को पब्लिक के लिए खोले जाने के बाद से 14.6% के ऐवरेज एसआईपी रिटर्न के साथ अच्छा प्रदर्शन किया है। ईटी ने पिछले तीन फाइनैंशल इयर्स में और लॉन्च से लेकर अब तक चार तरह के इन्वेस्टर्स को मिले रिटर्न का विश्लेषण किया। दिलचस्प ढंग से यह पता चला कि आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल पेंशन फंड सभी चारों तरह के इन्वेस्टर्स के लिए सबसे अच्छा पेंशन फंड रहा। कोटक पेंशन फंड और एसबीआई पेंशन फंड संयुक्त रूप से दूसरे स्थान पर रहे

 

GoogleTagged