Show Posts

This section allows you to view all posts made by this member. Note that you can only see posts made in areas you currently have access to.


Messages - sheemar

Pages:  1 2 3 ... 1495
1
Punjab Talks / Re: Maiser Khana Mela
« on: Today at 07:40:50 PM »

2
Punjab Talks / Maiser Khana Mela
« on: Today at 07:40:22 PM »

Maiser Khana ( ਮਾਈਸਰ ਖਾਨਾ ) is a temple built to honour the goddesses Durga and Jwala Ji. It is built 29 kilometers away from Bathinda on Bathinda-Mansa Road. Each year two grand melas are held here on ashtmi. According to a legend, long ago, a person called "Kamala", having failed to undertake hazardous pilgrimage to far off Jwala ji, underwent a lifelong penance to honour Durga for her darshan and the godedss was pleased to grant him a vision twice a year, so two melas are held each year. .People gather from almost all over from Punjab and even nearby states to join in singing hymns in praise of the deity. This is also considered important from political point of view because both Sikhs and Hindus gather with equal enthusiasm. As early as 1951 the devotees had requested Mahavir Dal to take over the shrine, which was decaying due to Government indifference. Only then the three high-ups namely Radhesham Budhlada, Jagannath ji of Maur Mandi and Hansraj Aggarwal collected funds and hired India's best architects to build the temple. It was one of the nine spots the Bathinda administration claimed would be developed to turn the district into tourist hub of Punjab.

3
Teachers News / Re: beti bachao beti padhao scheme
« on: Today at 04:03:52 PM »

4
Teachers News / Re: Teachers News Daily Updated
« on: September 22, 2017, 09:11:20 AM »

5
Health / Re: polio drops
« on: September 22, 2017, 09:10:09 AM »

6
Health / Re: polio drops
« on: September 22, 2017, 09:09:38 AM »

8
Teachers News / Re: Teachers News Daily Updated
« on: September 19, 2017, 07:54:33 AM »

9
Teachers News / Re: Teachers News Daily Updated
« on: September 18, 2017, 06:38:06 AM »
NCERT: 10 साल बाद किताबें अपडेट, नोटबंदी भी शामिल
टाइम्स न्यूज नेटवर्क | Updated: Sep 17, 2017
मानस प्रतीम गोहैन, नई दिल्ली
एनसीईआरटी ने अपनी पाठ्यपुस्तकों को अपडेट करने की तैयारी शुरू कर दी है। अभी जो पाठ्यपुस्तकें चल रही हैं, उनमें प्रस्तावना 30 नवंबर, 2007 की है, यानी 10 सालों से इन किताबों में सूचनाओं को न तो अपडेट किया गया है और न ही कोई नई जानकारी जोड़ी गई है। जैसे अगली जनगणना को तीन साल से कुछ ज्यादा समय ही बचे हैं लेकिन एनसीईआरटी की 8वीं क्लास की सामाजिक विज्ञान की पुस्तकों में भारत के संबंध में साक्षरता से जुड़े जो आंकड़े दिए गए हैं, वह 2001 के मुताबिक हैं। दूसरी ओर देश में आवास, बिजली और पाइप से सप्लाई होने वाले पानी से जुड़े आंकड़े 1994 में प्रकाशित आंकड़ों पर आधारित हैं।

इसे देखते हुए एनसीईआरटी ने कुछ सूचनाओं को अपडेट करने और कुछ नई चीजों को इसमें जोड़ने की योजना बनाई है। एनसीईआरटी अपनी करीब 182 पुस्तकों को अपडेट करेगा। अब तक एनसीईआरटी ने कुल 1,334 बदलाव किए हैं यानी 7 बदलाव प्रति पुस्तक हुए हैं। गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स, नोटबंदी, बेटी बचाव बेटी पढ़ाओ और स्वच्छता जैसे विषयों को अब शामिल किया जाएगा। इसके अलावा पुस्तकों में उच्चारण संबंधित त्रुटियों को दूर किया जाएगा और भाषा को आसान बनाया जाएगा।

एनसीईआरटी के निदेशक हृषिकेश सेनापति ने टीओआई को बताया कि टेक्स्ट्स एक महीने में तैयार हो जाएंगे और उसके तुरंत बाद प्रिंटिंग के लिए भेज दिया जाएगा। पुस्तकों को अप्रैल 2018 में ऐकडेमिक सेशन शुरू होने से पहले मार्च तक स्कूलों और लोगों तक डिलिवर कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया, 'कोई भी छात्र या व्यक्ति अपना ऑर्डर दे सकता है और हमने आर्डर प्राप्त करना शुरू कर दिया है। पुस्तकें डाक से डिलिवर की जाएंगी क्योंकि पुस्तकें दूर-दराज के इलाकों में भी भेजी जानी हैं।'

अगले साल के लिए काउंसिल को अपनी वेबसाइट पर अभी तक 2 करोड़ से ज्यादा पुस्तकों का ऑर्डर मिल चुका है। एनसीईआरटी के निदेशक हृषिकेश सेनापति ने बताया कि उनको पुस्तकों की ज्यादा मांग की उम्मीद है, 'हम यह मानकर चल रहे हैं कि सभी सीबीएसई स्कूल पुस्तकों का ऑर्डर देंगे जिससे इस साल करीब 13 करोड़ पुस्तकों की मांग होगी।'




पुस्तकों की बड़ी मांग को ध्यान में रखते हुए एनसीईआरटी ने अपने प्रिंटर्स और वेंडर्स की संख्या बढ़ाई है। इसके अलावा एनसीईआरटी ने पुस्तकों की पेपर क्वॉलिटी पर भी ध्यान दिया है। सेनापति ने बताया, 'हम क्वॉलिटी को ध्यान में रखते हुए 80 जीएसएम पेपर का इस्तेमाल कर रहे हैं जो प्राइवेट और अन्य स्टेट पब्लिशर्स की पुस्तकों के मुकाबले काफी हायर क्वॉलिटी है।'

10
Teachers News / Re: Teachers News Daily Updated
« on: September 18, 2017, 06:01:14 AM »

प्रद्युम्न कत्लकांड : आरोपी के शरीर में नशीली दवा मिली, मारपीट के निशान

एनसीईआरटी किताबों में देगी गुड टच, बैड टच की जानकारी

गुड़गांव | रेयानस्कूल के छात्र प्रद्युम्न के कत्ल के आरोपी कंडक्टर अशोक का मेडिकल करने वाली डाॅ. निशू ने रविवार को दावा किया कि आरोपी के शरीर में तो नशीली दवा मिली थी और ही मारपीट के निशान थे। उस समय वह पूरी तरह सही था। हां थोड़ा बीपी जरूर बढ़ा हुआ था। शुक्रवार को अशोक की पत्नी और वकील ने दावा किया था कि पुलिस ने नशे का इंजेक्शन लगाकर जुर्म कबूल कराया है।

अगले सेशन से शुरुआत, हेल्पलाइन नंबर भी होगा

एजेंसी | नई दिल्ली
बालयौन शोषण पर अंकुश लगाने के लिए एनसीईआरटी चाहती है कि बच्चे गुड टच और बैड टच से अवगत हों और ऐसी स्थिति आने पर क्या करें और क्या करें, इसकी जानकारी उन्हें स्कूल की िकताब में मिल जाए। एनसीईअारटी डायरेक्टर ऋषिकेश सेनापति ने कहा कि बाल एवं महिला विकास मंत्रालय ने यह सुझाव दिया था। इसे हम लागू कर रहे हैं। इसके लिए एनसीईआरटी ने अगले सेशन से सभी किताबों के बैकपेज के दूसरी ओर जानकारी प्रकाशित करने को कहा है। इसमें हेल्पलाइन नंबर भी रहेगा।

Pages:  1 2 3 ... 1495