Author Topic: Maha Kumbh Mela Nasik 2015  (Read 2097 times)

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Online
  • Posts: 50783
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Maha Kumbh Mela Nasik 2015
« on: June 04, 2015, 10:13:05 AM »
Kumbh Mela “Nashik Kumbh Mela 2015”
is a massive gathering of Hindu Pilgrims of faith and devotion. Kumbh Mela is also called as largest peaceful gathering in world with over 100 millions of pilgrims, travelers, sadhus, saint. (if you have been to burning man festival, and thought that was huge gathering.. Nope you are wrong. Burning Man festival is huge but Kumbh Mela is massive. Don’t just read at website, jump into and book your trip with us for Nashik Kumbh Mela 2015 and experience it. If you have not been to Kumbh Mela, you have not seen the religious aspect of India

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Online
  • Posts: 50783
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Re: Maha Kumbh Mela Nasik 2015
« Reply #1 on: June 05, 2015, 07:07:19 AM »

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Online
  • Posts: 50783
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Re: Maha Kumbh Mela Nasik 2015
« Reply #2 on: June 29, 2015, 09:11:29 AM »

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Online
  • Posts: 50783
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Re: Maha Kumbh Mela Nasik 2015
« Reply #3 on: July 06, 2015, 02:03:17 PM »
दो महीने का कुंभ और कई साल की जहमत

मुंबई, [ओमप्रकाश तिवारी]। नाशिक में लगने जा रहा कुंभ स्थानीय किसानों एवं धार्मिक मठों के लिए मुसीबत भी बनकर आ रहा है। कुंभ के लिए अधिगृहीत भूमि का उचित मुआवजा पाना किसानों और मठों के लिए टेढ़ी खीर साबित होती है। नाशिक और उसके पड़ोसी कस्बे त्रयंबकेश्वर में सिंहस्थ कुंभ की शुरुआत 14 जुलाई से होने जा रही है। कुंभ करीब ढाई माह तक चलेगा। नाशिक महानगरपालिका ने कुंभ में आनेवाले अखाड़ों को ठहराने के लिए स्थानीय किसानों एवं धार्मिक मठों से करीब 350 एकड़ जमीन अस्थाई तौर पर अधिगृहीत की है। एक साल के लिए अधिगृहीत शहर के बीचोंबीच स्थित इन भूखंडों का मुआवजा 10.57 लाख रुपये निर्धारित किया गया है। लेकिन यह मुआवजा समय पर मिलना मुश्किल होता है। इसके अलावा मुआवजे से अधिक राशि भूखंड को पुन: कृषियोग्य बनाने में खर्च करना पड़ता है, क्योंकि इस जमीन पर साधुग्राम बसाने करने के लिए प्रशासन करीब नौ इंच मोटी बजड़ी की फर्श तैयार करती है। कुंभ के बाद यह परत ज्यों-की-त्यों छोड़कर प्रशासन नदारद हो जाता है। तब किसानों को मुआवजे से अधिक राशि अपने खेतों को पुन: तैयार करने में खर्च हो जाती है। इससे भी अधिक मुसीबत स्थानीय धार्मिक मठों के सामने खड़ी दिख रही है। कुंभ के नाम पर स्थायी या अस्थाई रूप से अधिगृहीत भूखंडों के लिए इन ट्रस्टों को मुकदमा तक लडऩा पड़ रहा है। साथ ही उनकी बची-खुची जमीनों को प्रशासन अन्य उद्देश्यों के लिए आरक्षित करने लगा है। अयोध्या की छोटी मणिराम दास छावनी की ही एक शाखा श्री स्वामीनारायण मंदिर ट्रस्ट से 30 एकड़ जमीन नाशिक मनपा ने 2003 में प्रति एकड़ 20 लाख रुपये की दर से खरीदी। मंदिर के महंत रामसनेही दास के अनुसार जमीन की आधी-तिहाई राशि मिलने के बाद शेष के लिए ट्रस्ट को मनपा से मुकदमेबाजी करनी पड़ रही है। यही नहीं, करीब 300 साल पुराने इस ट्रस्ट की बची-खुची जमीन भी मनपा स्टेडियम और अस्पताल के नाम पर जबरन आरक्षित करती जा रही है। जबकि 2003 के कुंभ हेतु आरक्षित कई भूखंडों पर आज व्यावसायिक और रिहायसी इमारतें देखी जा सकती हैं। -
« Last Edit: July 06, 2015, 02:04:34 PM by SHANDAL »

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Online
  • Posts: 50783
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Re: Maha Kumbh Mela Nasik 2015
« Reply #4 on: July 07, 2015, 11:41:02 AM »
Rs 2,500 cr, 22 govt depts, 40 NGOs at work for clean Kumbh Mela


Maharashtra government has set aside a Rs 2,500 crore budget and engaged 22 departments in planning to provide water, power, lodging, security and transport in the Kumbh Mela starting in Nashik on July 14.

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Online
  • Posts: 50783
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Re: Maha Kumbh Mela Nasik 2015
« Reply #5 on: July 07, 2015, 11:43:25 AM »
 Published on:July 7, 2015 4:51 am The Maharashtra government has set aside a Rs 2,500 crore budget and engaged 22 departments in micro and macro planning to provide water, power, lodging, security and transport in the Kumbh Mela starting in Nashik on July 14. The focus of the effort is on cleanliness. Clean and Green Pilgrimage is the theme, with the state government pledging to carry forward the Prime Minister’s Swachch Bharat Abhiyan.
For the last one-and-a-half months, some 10,000 to 15,000 people have volunteered in the drive undertaken by the administration to clean the river Godavari that runs through the temple towns of Nashik and Trimbakeshwar. The bigger challenge, however, will come when Nashik hosts more than one crore pilgrims until September. Some 20,000 people, including those from 40 NGOs, will be deployed for the cleanliness drive as well as other services including crowd management. The Bill & Melinda Gates Foundation will provide disposable dustbins for waste that will run into several thousand tonnes. The estimate is that each day, they would have to clear four crore paper plates and teacups. In keeping with Maharashtra Chief Minister Devendra Fadnavis’s drive “Say no to plastic”, cloth bags with environment-friendly messages will be distributed free to visitors. More than 5,500 people have been recruited to maintain temporary, mobile and permanent toilets across the city and its outskirts for pilgrims. The 5,500-strong team will work on three shifts.

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Online
  • Posts: 50783
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Re: Maha Kumbh Mela Nasik 2015
« Reply #6 on: July 07, 2015, 11:45:56 AM »
Flood management “From a possible terror strike to flooding, we have factored in all aspects and accordingly made our plans,” Nashik collector Deependra Singh Kushwaha said. “The five critical areas are security, water, power, transport and disaster management.” The disaster management cell with its quick response team will be at hand for evacuation if necessary, equipped with rescue boats and divers. Pressure pumps are being installed to divert water along the ghats. No tents will be allowed in the ghats. Unlike Allahabad and Ujjain, where the Kumbh Mela takes place on the outskirts and the rivers have wider banks, the Nashik Kumbh is held in heart of the town. In both Allahabad and Ujjain, Kumbh Mela takes place during winters; in Nashik, it falls during the monsoon once every 12 years. Security Around 20,000 police personnel will guard the city and its periphery, aided by paramilitary troops. The state administration has discussed with Devlali Cantonment plans to tackle any emergency. Transport Following a meeting with Railways Minister Suresh Prabhu, additional trains are being provided to Nashik. An additional railway platform has been put in place. A train will run every 20 minutes. The administration will deploy 3,000 to 3,400 buses. “Kumbh Mela is a holy pilgrimage of sadhus. We look forward to their blessings… The government’s effort will be to ensure that no one who comes toVthe Kumbh Mela is inconvenienced,” Fadnavis said.

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Online
  • Posts: 50783
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Re: Maha Kumbh Mela Nasik 2015
« Reply #7 on: July 07, 2015, 03:38:28 PM »
नासिक कुंभ - 2015: दो महीने का कुंभ और 12 वर्ष की जहमत -

मुंबई । नासिक में लगने जा रहा कुंभ स्थानीय किसानों एवं धार्मिक मठों के लिए मुसीबत भी बनकर आ रहा है। क्योंकि कुंभ के लिए अधिग्रहीत भूमि का उचित मुआवजा पाना किसानों और मठों के लिए टेढ़ी खीर साबित होता है। नासिक और उसके पड़ोसी कस्बे त्र्यंबकेश्वर में सिंहस्थ कुंभ की शुरुआत 14 जुलाई से होने जा रही है, जो करीब ढाई माह तक चलेगा। नासिक महानगरपालिका ने कुंभ में आनेवाले अखाड़ों को ठहराने के लिए स्थानीय किसानों एवं धार्मिक मठों से करीब 350 एकड़ जमीन अस्थायी तौर पर अधिग्रहीत की है। एक साल के लिए अधिग्रहित शहर के बीचोबीच स्थित इन भूखंडों का मुआवजा 10.57 लाख रुपये निर्धारित किया गया है। लेकिन यह मुआवजा समय पर मिलना तो मुश्किल होता ही है, किसानों की मुआवजे से अधिक राशि भूखंड को पुनः कृषियोग्य बनाने में लग जाता है। क्योंकि अधिग्रहीत भूखंडों पर साधुग्राम का निर्माण करने के लिए प्रशासन करीब नौ इंच मोटी बजड़ी की फर्श तैयार करती है। कुंभ के बाद यह परत ज्यों की त्यों छोड़ प्रशासन नदारद हो जाता है। तब किसानों को मुआवजे से अधिक राशि अपने खेतों को पुनः खेती लायक बनाने में खर्च हो जाती है। इससे भी अधिक मुसीबत स्थानीय धार्मिक मठों के सामने खड़ी दिख रही है। क्योंकि कुंभ के नाम पर स्थायी या अस्थायी रूप से अधिग्रहीत भूखंडों के लिए इन ट्रस्टों को मुकदमा तक लड़ना पड़ रहा है। साथ ही उनकी बची-खुची जमीनों को प्रशासन अन्य उद्देश्यों के लिए आरक्षित करने लगा है। अयोध्या की छोटी मणिराम दास छावनी की ही एक शाखा श्री स्वामीनारायण मंदिर ट्रस्ट 30 एकड़ जमीन नासिक मनपा ने 2003 में ट्रस्ट से प्रति एकड़ 20 लाख रुपए की दर से खरीदी थी। मंदिर के महंत रामसनेही दास के अनुसार बिकी जमीन की आधी-तिहाई राशि मिलने के बाद शेष राशि के लिए ट्रस्ट को मनपा के साथ मुकदमेबाजी करनी पड़ रही है। यही नहीं, करीब 300 साल पुराने इस ट्रस्ट की बची-खुची जमीनें भी मनपा स्टेडियम और अस्पताल के नाम पर जबरन आरक्षित करती जा रही है। जबकि 2003 के कुंभ हेतु आरक्षित ऐसे कई भूखंडों पर आज व्यावसायिक एवं रिहायसी इमारतें बनी देखी जा सकती हैं। -

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Online
  • Posts: 50783
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Re: Maha Kumbh Mela Nasik 2015
« Reply #8 on: July 11, 2015, 06:16:53 AM »

SHANDAL

  • News Editor
  • *****
  • Online
  • Posts: 50783
  • Gender: Male
  • English
    • View Profile
Re: Maha Kumbh Mela Nasik 2015
« Reply #9 on: July 15, 2015, 05:18:27 AM »

 

GoogleTagged



Roza (month of Ramzan)will begin from 19th June 2015

Started by khoji78

Replies: 4
Views: 612
Last post June 27, 2015, 06:25:29 PM
by Baljit NABHA
Parkash Gurpurab of Sri Guru Granth Sahib 2015

Started by Baljit NABHA

Replies: 0
Views: 720
Last post September 14, 2015, 01:09:05 PM
by Baljit NABHA
Shahidi Jor Mela Fatehgarh Sahib

Started by Baljit NABHA

Replies: 6
Views: 129
Last post December 26, 2017, 09:39:04 AM
by Baljit NABHA
MAHA SHIVRATRI & image gallery

Started by SHANDAL

Replies: 107
Views: 4799
Last post February 22, 2018, 07:24:18 AM
by SHANDAL
Simhastha Kumbh 2016 at Ujjain

Started by SHANDAL

Replies: 99
Views: 4104
Last post January 01, 2018, 05:55:53 AM
by SHANDAL